यूपी पंचायत चुनाव से पहले कानून व्यवस्था पर सवाल! 72 घंटों में 11 हत्याओं से दहला पूर्वांचल

एस पी न्यू्ज (संवाददाता):-यूपी में पंचायत चुनावों से पहले ताबड़तोड़ हत्या की वारदातों से पूर्वांचल दहल गया है। बीते 3 दिनों में पूर्वांचल में 11 हत्या की घटना सामने आई है। वाराणसी, आजमगढ़, बलिया,मिर्जापुर, सोनभद्र, गाजीपुर, जौनपुर के अलावा चंदौली में बदमाशों ने हत्या की वारदातों को अंजाम दिया है।*

हाइलाइट्स:
पूर्वांचल के 8 जिलों में बदमाशों ने हत्या की 11 वारदातों को अंजाम दिया
आजमगढ़ और बलिया में भी हुईं दो- दो हत्याएं
उत्तर प्रदेश में ताबड़तोड़ अपराधिक वारदातों से अब कानून व्यवस्था पर सवाल

यूपी पंचायत चुनाव

*उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव से पहले पूर्वांचल में बढ़ते आपराधिक वारदातों से कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं। पिछले 72 घण्टों में वाराणसी सहित पूर्वांचल के 8 जिलों में बदमाशों ने हत्या की 11 वारदातों को अंजाम दिया। चुनावी रंजिश से लेकर आपसी विवाद में ये वारदातें हुई हैं।*
*वाराणसी के मिर्जामुराद में 28 मार्च की रात बाइक सवार बदमाशों ने मामूली विवाद के बाद ताबड़तोड़ फायरिंग कर 16 साल के शख्स की हत्या कर दी । इस घटना में 8 साल से मासूम समेत एक अन्य को शख्स को भी गोली लगी थीं। दूसरी वारदात, चौबेपुर थाने की है जहां होली पर रंग लगाने को लेकर हुए विवाद में पूर्व बीडीसी सदस्य राजू राजभर की दबंगो ने पीट-पीट कर हत्या कर दी।*
*आजमगढ़ और बलिया में भी दो- दो हत्याएं*
*वाराणसी के अलावा आजमगढ़ और बलिया में भी बदमाशों ने दो-दो हत्या की वारदातों को अंजाम दिया।* आजमगढ़ जिले के जीयनपुर के लालघाट आसपुर गाँव के करीब 28 मार्च को राजेंद्र सिंह नाम के शख्स को बिजली से खम्बे से लड़ाकर हत्या कर दी गई। दूसरी तरफ, जिले के अमिलो गांव में 30 मार्च की रात छत पर सो रहे दिनेश कुमार पर बदमाशों ने धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी। इन सब के अलावा रौनापार थाना क्षेत्र के देवारा खास राजा गांव में मंगलवार की रात करीब चुनाव प्रचार के दौरान प्रधान पुत्र को बदमाशों ने गोली मार दिया। घायल प्रधानपुत्र का अस्पताल में इलाज चल रहा है। बलिया के बाँसडीहरोड थानाक्षेत्र में 29 मार्च को सनकी प्रेमी ने अपनी प्रेमिका की गला रेतकर हत्या कर दी।यूपी पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान, चार चरणों में होंगे मतदान, 2 मई को आएंगे नतीजे, पढ़ें पूरी डीटेल
इन जिलों में भी हुई हत्याएं
वाराणसी,आजमगढ़ बलिया के अलावा मिर्जापुर,सोनभद्र चंदौली,गाजीपुर और जौनपुर में भी एक-एक हत्याएं हुई। मिर्जापुर जिले में 28 मार्च की छेड़खनी का विरोध करने पर बदमाशों ने रवींद्र कुमार निषाद की हत्या कर दी। चंदौली में चुनावी रंजिश में केराडीह के निवर्तमान ग्राम प्रधान मुन्ना चौहान के भाई जसवंत की हत्या कर दी गई। सोनभद्र के वैनी गांव में आपसी विवाद में 29 मार्च की रात बदमाशों ने घर मे घुसकर राजू नाम के शख्स की हत्या कर दी।
इन सब के अलावा गाजीपुर और जौनपुर में भी बदमाशों ने आपराधिक वारदातों को अंजाम दिया। गाजीपुर के नंदगंज में पुराने क्रिकेट के विवाद को लेकर हुए मारपीट में विशाल नाम के युवक की इलाज के दौरान मौत हो गई। जौनपुर के रसूलपुर गांव में मनबढ़ बदमाशों ने युवक की गला दबाकर हत्या कर दी।

कानून व्यवस्था पर सवाल
उत्तर प्रदेश में ताबड़तोड़ अपराधिक वारदातों से अब कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं। 72 घण्टों में यूपी के अलग-अलग जिलों में एक के बाद एक हुए इन वारदातों ने ये तो साफ कर दिया है कि यूपी में अपराधी फिर से बेलगाम हो रहे है। अब देंखने की बात होगी कि पुलिस इन अपराधियों पर कब और कैसे लगाम लगाती हैं।

सवांददाता- रत्न गुप्ता की रिपोर्ट

Check Also

पति व दरोगा के प्रताड़ना से जिंदगी और मौत से जूझ रहि बबीता

🔊 Listen to this महराजगंज:-सिंदुरिया थाना क्षेत्र के बबीता ने पुलिस अधीक्षक को लिखित शिकायती …